USB/पेनड्राइव में से शॉर्टकट वायरस को कैसे हटाए?

USB ड्राइव या पेनड्राइव में से शॉर्टकट वायरस को कैसे हटाए और वायरस द्वारा छिपाई गई फाइलों को कैसे देखें?

क्या आप का डिवाइस भी शॉर्टकट वायरस से इन्फेक्टेड हैं? शॉर्टकट वायरस आपकी फ़ाइलों और फ़ोल्डरों को छुपा देता है और उनकी ही तरह दिखने वली फाइल या फोल्डर का शॉर्टकट बना कर दिखाता है और जब हम उस पर क्लिक करते है तब ये वायरस हमारे सिस्टम में भी घुस जाता है।

कंप्यूटर वायरस कई तरह के होते है और उन्ही में से एक शॉर्टकट वायरस है। इस तरह के वायरस आपके डिवाइस को इन्फेक्ट करके फिर मैलिसियस सॉफ़्टवेयर डाउनलोड करने के लिए पॉपउप दिखा सकते है या फिर दूसरी समस्याए करना शुरू कर देते है।

तो शॉर्टकट वायरस आखिर क्या होता है? ये इतना बुरा क्यों है? क्या आप का डिवाइस भी इस वायरस से इन्फेक्टेड हैं? अगर हाँ तो उसे अपने डिवाइस से कैसे हटाए? ये आर्टिकल में इस तरह के वायरस को हटाने का तरीका समझते है। लेकिन उससे पहले ये समझते है की ये किस तरह का वायरस है।

शॉर्टकट वायरस क्या होता है?

शॉर्टकट वायरस एक प्रकार का ट्रोजन और वर्म का कॉम्बिनेशन है जो आपकी सभी फाइलों और फ़ोल्डरों को छुपा देता है, फिर उन्हें शॉर्टकट में बदल देता है जो ओरिजिनल के जैसी ही दिखती हैं। जब आप इनमें से किसी भी फाइल को खोलने के लिए उस पर डबल क्लिक करते को ये वायरस लॉन्च हो जाता हैं, जिससे ये वायरस आपके सिस्टम में और दूसरे सभी कनेक्टेड डिवाइस में फैला जाता है, जिससे कारण आपका सिस्टम और उससे जुड़े सभी डिवाइस इन्फेक्ट हो जाते है। कई बार इसी कारण से आपके डिवाइस में से पर्सनल डेटा की चोरी, सिस्टम की परफॉरमेंस का ख़राब होना और दूसरे प्रकार के प्रॉब्लम होनी शुरू हो जाती हैं।

शॉर्टकट वायरस ज्यादातर फिजिकल फाइल ट्रांसफर डिवाइस को ही इन्फेक्ट करता है जैसे की USB फ्लैश ड्राइव, एक्सटर्नल हार्ड ड्राइव और SD मेमोरी कार्ड, लेकिन किसी इन्फेक्टेड डिवाइस से कनेक्ट होने पर ये कंप्यूटर में ट्रांसफर भी हो सकता है।

USB ड्राइव या पेनड्राइव में से शॉर्टकट वायरस कैसे हटाए?

How To Remove a Shortcut Virus From a USB Drive - in Hindi

वैसे तो किसी भी तरह के वायरस को अपने डिवाइस में से हटाने के लिए सबसे बढ़िया तरीका एंटीवायरस सॉफ्टवेयर है, लेकिन कई बार एंटीवायरस भी शॉर्टकट वायरस को नहीं ढूंढ पाते हैं।

इसलिए, इस तरह के वायरस को मैन्युअली हटाने का तरीका इस आर्टिकल में बताया गया है। बिलकुल सही, हम बिना सॉफ्टवेयर के भी इसे हटा सकते है और इसका प्रोसेस बिलकुल सिंपल है।

अगर आपके पास एक USB ड्राइव, एक्सटर्नल हार्ड ड्राइव, या माइक्रो SD मेमोरी कार्ड है जो शॉर्टकट वायरस से इन्फेक्टेड है, तो जब भी आप इसे विंडोज PC में लगाएगे तो ये वायरस उस PC में भी फ़ैल जाएगा। लेकिन वायरस को हटाने के लिए इसे कंप्यूटर से तो जोड़ना ही होगा। इसे दो तरीको से हटाया जा सकता है, आइए जानते है वो दो तरीके कौन से है:

विंडोज का इस्तेमाल करके के शॉर्टकट वायरस को कैसे हटाए?

1सबसे पहले अपने सिस्टम में से सभी हिडन फाइल को अनहाईड (जिससे सभी छुपी हुई फाइल दिखाई देने लगेगी) करना होगा। हाईड फाइलो या फोल्डर को कैसे देखे?

2अब एक्सटर्नल डिवाइस (जैसे की USB Device, Pendrive, External Hard Drive, इत्यादि) को अपने कंप्यूटर में जोड़े।

3अब आपको This PC को खोलना होगा उसमे आपको एक्सटर्नल डिवाइस लेटर चेक करना होगा। जैसे की मेरे सिस्टम में K ड्राइव है, जिससे आपको आपके USB डिवाइस का ड्राइव लेटर पाता चल जाएगा।

4इसके बाद आपको Windows Key + R बटन दबाना है फिर एक नई विंडो आपके सामने आ जाएगी, उसमे CMD टाइप करके Enter बटन को दबाएं या फिर OK बटन पर क्लिक करे।

How to open the Command Prompt?

5अब आपके सामने Command Prompt खुल गया होगा, इस पर आपको निचे दी गई कमांड टाइप करनी है या आप कॉपी पेस्ट भी कर सकते है:

C:\Users\dharm>cd..
C:\Users>cd..
attrib -h -r -s /s /d k:\*.*

ध्यान रहे की लेटर K की जगह पर आपको अपनी पेनड्राइव, USB ड्राइव या जो भी आपका एक्सटर्नल डिवाइस है उसका ड्राइव लेटर टाइप करना होगा।

Enter a command to remove the shortcut virus

6अब पेनड्राइव या USB ड्राइव को चेक करे, उसमे आपको बिना नाम का एक फोल्डर दिखाई देगा। सबसे पहले उस फोल्डर को एक नाम दे दे, फिर जब आप उस फोल्डर को खोलेंगे तो आपकी सभी फाइल और फोल्डर उस बेनाम फोल्डर के अंदर दिखाई देगी।

लिनक्स OS का इस्तेमाल करके के शॉर्टकट वायरस को कैसे हटाए?

1अगर आप Macbook या Linux OS का इस्तेमाल करते है तो जैसे ही पेनड्राइव को सिस्टम से कनेक्ट करेंगे बिना नाम का फोल्डर डायरेक्ट ही दिखाई दे जाएगा। जिसके अंदर आपकी सारी फाइल और फोल्डर आपको मिल जाएंगे। क्यूंकि लिनक्स और Mac में वायरस काम नहीं करता है।

2वैसे भी शॉर्टकट वायरस केवल विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए ही बने होते है इसीलिए ये लिनक्स में काम नहीं कर पाते, क्यूंकि दोनों ही OS में फाइल को चलाने तरीका अलग अलग होता है।

वायरस आपकी सभी फ़ाइलो और फ़ोल्डर को एक फ़ोल्डर में ट्रांसफर कर देता है और फिर उसे बिना नाम के छोड़ देता है, जिससे सर्च करने पर भी वो फोल्डर नहीं  मिलता। क्यूंकि सर्च ऑप्शन भी तभी काम करता है जब किसी फाइल या फोल्डर का कोई नाम हो, क्यूंकि ये उन फाइलो को नाम के आधार पर ही ढूंढ पाता है।

अब आप सोच रहे होंगे की लिनक्स या Mac में ये वायरस काम क्यों नहीं करता है। तो इसका सिंपल सा जवाब है की वायरस अभी तक विंडोड़स के लिए ही बनाया गया है लिनक्स या Mac के लिए नहीं, क्युकी सबसे ज्यादा यूजर विंडोज के है Mac या फिर लिनक्स के नहीं।

अगर Windows 10 या Windows 11 की बात करे तो इसकी सिक्योरिटी इतनी ज्यादा स्ट्रांग है की नार्मल वायरस इसमें कोई हानि नहीं पंहुचा पाते है। इनमे कोई हाई लेवल का वायरस ही नुकसान पंहुचा सकता है, जैसे की रैंसमवेयर।

अगर पहला तरीका न काम करे और आपके पास लिनक्स भी नहीं है तो फिर आप अपडेटेड एंटीवायरस सिस्टम में इनस्टॉल करे और उसके जरिए स्कैन करके सभी तरह के वायरस को हटा दे। लेकिन ध्यान रहे एंटीवायरस लेटेस्ट और अपडेटेड होना चाहिए तभी वो वायरस पूरी तरहस से हटा पाएगा।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों, परिवार जनो और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे और हम से जुड़े रहने और लेटेस्ट अपडेट के लिए आप हमें Facebook पर फॉलो करे।

Dharmendra Author on Web Janakari

मेरा नाम धर्मेंद्र मीणा है, मुझे तकनीक (कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन्स, सॉफ्टवेयर, इंटरनेट, इत्यादि) से सम्बन्धी नया सीखा अच्छा लगता है। जो भी में सीखता हु वो मुझे दुसरो के साथ शेयर करना अच्छा लगता है। इस ब्लॉग को शुरू करने का मेरा मकसद जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक हिंदी में पहुंचना है।

शेयर करे:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *